ब्लैक फंगस के लक्षण- ब्लैक फंगस की सम्पूर्ण जानकारी 

ब्लैक फंगस के लक्षण

ब्लैक फंगस आज कल काफी चर्चा में है फंगस हमारे चारों तरफ होते है घर के अंदर खाना खुला रह जाये या ब्रेड तो उसमें फंगस लग जाता है ! यानी कि जंहा सीलन है वहाँ हर जगह फंगस होते है !
जो लोग कोविड का इलाज करवा रहे हैं या जिनको कोविड हुआ था उनको फंगस इंफेक्शन हो रहा है ! लेकिन यह इंफेक्शन किसी को भी हो सकता है क्योंकि यह वतावरण में है ! –ब्लैक फंगस के लक्षण

ब्लैक फंगस को कैसे रोके

घर के अंदर साफ सफाई रखे अपनी सफाई रखे अपने आस पास की सफाई रखे ! जिससे कि हवाओ का एक्सप्रोजल कम हो सबसे पहले कोविड19 से बचे ! मास्क पहने,दूरी रखे, हाथ धोये और जितनी जल्दी सम्भव हो कोरोना की वैक्सीन लगवाएं !

मरीज का जब कोविड में इलाज होता है तो कई तरह के विटामिन्स और मिनरल्स दिया जाता है ! खासतौर पर जिंक,विटामिन सी दिया जाता है और दवाइयां दी जाती है ! पर देखा गया है कि जिंक एक बहुत महत्वपूर्ण एलिमेंट है जो फंगस को ग्रो करने में मदद करता है ! किसी भी वजह से अगर डेली जरूरतों से अगर ज्यादा जिंक ले रहे हैं तो कही न कही जिंक की मात्रा शरीर मे बढ़ती है इसीलिए यह फंगस की मदद करती है बीमारियों में बदलने के लिए !

ब्लैक फंगस किसे होता है

ऐसा नहीं कि जिन्हें डायबिटीज है उन्ही को कोविड हो सकता है बिना शुगर बढ़े, बिना डायबिटीज हुए या बिना किसी बीमारी के भी देखा गया है ! कि कोविड इंफेक्शन के बाद लोगो को फंगस इंफेक्शन हुआ है यानी कि कोविड नाक के रास्ते से इन्फ्लेमेशन की वजह से ऐसी इंजरी कर देता है ! कि अगर ऐसे लोगो को हवाओ का एक्सप्रोजल हो तो वह फंगस इंफेक्शन डिजीज में कंवर्ड हो जाती है !

कोविड इंफेक्शन डेढ़ दो साल से है लेकिन ब्लैक फंगस इंफेक्शन पहले भी देखा गया है लेकिन कोविड होने की वजह से इम्युनिटी पावर कम होने से लोगो मे ब्लैक फंगस ज्यादा बढ़ गए हैं ! और नॉन कोविड पेशेंट को भी यह इंफेक्शन हो सकता है !

ब्लैक फंगस किसके लिए खतरनाक

ब्लैक फंगस सभी लोगो के लिए रिस्क है यह देखा गया है कि ज्यादा तर एक्सट्रीम एज में हो सकती है ! बच्चों में ऐसी दवाइयां दी जाती है जिससे शरीर की इम्युनिटी कम हो तो उन लोगो मे ब्लैक फंगस का इंफेक्शन हो सकता है ! ब्लैक फंगस होने का सबसे महत्वपूर्ण कारण कमजोर इम्युनिटी है ! और इसके कई कारण है स्टेरॉयड का दुरुपयोग, डायबिटीज, एम्यूनोस्प्रेसन्ट दवाएं लेना जैसे कि कीमोथेरेपी लेना !

ब्लैक फंगस और कोविड  की पहचान

कोविड शरीर के इम्युनिटी को कम करता है ! कोविड जिनको सृजनल इंफेक्शन होता है उन्हें स्टेरॉयड दिए जाते हैं ! जो कोविड निगेटिव के बाद भी दिये जाते हैं ! जब तक यह बीमारी है या बीमारी के लक्षण है जब तक इम्युनिटी रिकवर नही कर लेती तब तक रिस्क हो सकता है यह दो चार हफ़्तों तक रह सकता है !

 

  1. पेट गैस की दवा – पेट मे गैस के कारण
  2. साइनस के लक्षण
  3. अस्थमा के लक्षण
  4. वायरल फीवर के कारण
  5. चुकंदर के फायदे
  6. मलेरिया के लक्षण

ब्लैक फंगस

ब्लैक फंगस एक दूसरे से नही फैलता है यह कोविड की तरह नही होता है यह इंफेक्शन वतावरण के अंदर है ! और वह किसी कारण से इम्युनिटी कम होगी और नाक के रास्ते से जाकर अंदर बीमारी बना देती है ! ऐसे ही अगर किसी को चोट लगी हो तो और साफ सफाई का ध्यान न रखा गया हो उस हिस्से के अंदर काला इंफेक्शन हो सकता है ! जिससे स्किन खराब हो जाता है जिसे ब्लैक फंगस कहते हैं !

ब्लैक फंगस के लक्षण

सबसे कॉमन जगह नाक या साइनस है तो अगर नाक में इफेक्ट करता है तो नाक की सीक्रिएशन बढ़ जाएगी ! ब्लड आ सकती है नाक प्लक हो सकती हैं और साइनस में इफेक्ट करेगा तो दर्द,सूजन दाँतो में दर्द, दाँतो का ढीला होना यह भी एक लक्षण है ! अगर वह आगे बढ़े तो वह आंख पर भी आ सकता है जिसकी वजह से आंखे लाल,आंखों में सूजन और दिखना भी बंद हो सकता है !

ज्यादा हुआ तो हेडेक कंवर्जन्स इस तरह की प्रॉब्लम हो सकती है !
अगर फेफड़े में इंफेक्शन हुआ तो खाँसी, खाँसी के साथ खून एक्सरे करने पर कीटाणु दिख सकते हैं !
खासतौर पर चेहरे पर सूजन ,नाक भरी हुई ,सिर दर्द, आंखे लाल,नाक व तालू का काला पड़ना नाक से स्राव व बुखार आदि शामिल है !

ब्लैक फंगस क्या है – ब्लैक फंगस के लक्षण

मेडिकल भाषा मे इसे “म्यूकोमरिकोसिस ” कहते है ! और यह ” म्यूकोमाइसीट्स” नामक फंगस के समूह के कारण होने वाला एक गंभीर फंगल इंफेक्शन है !

ब्लैक फंगस कैसे फैलता है  – ब्लैक फंगस के लक्षण

म्यूकोमाइसीट्स हर जगह होते है जैसे मिट्टी,हवा,खाद,और गिरे हुए पत्ते में और सबसे अधिक यह नाक के जरिये सांस लेते समय यह अंदर जाता है ! इसीलिए मास्क पहनना इसे रोकने में मदद करता है !

क्या ब्लैक फंगस संक्रामक है – ब्लैक फंगस के लक्षण

अगर किसी संक्रमित व्यक्ति के निकट या सम्पर्क में जाते हैं तो भी यह बीमारी नही होगी ! तो यह अधिक संक्रामक नही है !

ब्लैक फंगस का प्रकोप  – ब्लैक फंगस के लक्षण

भारत मे डायबिटीज के मरीज अधिक है इसके साथ कोविड 19 के व्यापक दुरुपयोग और ग्लूकोज के लेवल को नियंत्रित में न रखने की वजह से ज्यादा ब्लैक फंगस हो रहे है !
डायबिटीज और स्टेरॉयड का कारण ही एक मात्र कारण है इसके अलावा भी कुछ और कारण है ! कि इंस्ट्रीयल ग्रेड ऑक्सीजन ह्यूमिडिफायर में नल का पानी,दोबारा इस्तेमाल किये गए मास्क ,एंटीबायोटिक का ज्यादा इस्तेमाल करना !

ब्लैक फंगस कैसे कम करें

यदि डायबिटीज है तो सुनिशिचत करे कि ब्लड ग्लूकोज लेवल को कंट्रोल में रखे ! ब्लैक फंगस से संक्रमित होने पर अनियंत्रित डायबिटीज ब्लैक फंगस के सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक है !

स्टेरॉयड इस्तेमाल करने वाले मरीज अपने डॉक्टर के बताए अनुसार ही करे ! अधिक स्टेरॉयड का इस्तेमाल करने से दो तारीके का नुकसान पहुँचाता है !
इम्युनिटी को कम करता है
ग्लूकोज लेवल को बढ़ाता है !

कोविड 19 में स्टेरॉयड का इस्तेमाल

जरूरत न होने पर स्टेरॉयड का इस्तेमाल न करने के बारे में सावधान रहना है ! यदि ऑक्सीजन लेवल नॉर्मल है तो इसका उपयोग करने से फायदे से ज्यादा नुकसान करता है ! यदि डायबिटीज और गंभीर कोविड 19 में स्टेरॉयड ले सकते है! लेकिन यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि ब्लड ग्लूकोज लेवल कंट्रोल में है या नही ! स्टेरॉयड का उपयोग जरूरत से ज्यादा नही करना चाहिए !

ब्लैक फंगस के लक्षण में क्या करे

सबसे पहले घर पर या खुद इलाज करने की कोशिश बिल्कुल न करे ब्लैक फंगस होने पर तत्काल अस्पताल में भर्ती होने,और उपचार शुरू कर देना चाहिए ! अगर जल्दी इलाज शुरू हो जाये तो ब्लैक फंगस के मरीज को ठीक किया जा सकता है ! नही तो सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है !

नोट :– ब्लैक फंगस भारत मे इसीलिए ज्यादा है क्योंकि यहाँ का क्लाइमेट यहां का रहन सहन यह एक बहुत बड़ा कारण है ! किसी कारण से डिकेंस सिस्टम जब कमजोर हो जाता है या टूटता है तो इनको चांस मिलते है ! ये इंफेक्शन नॉर्मल लोगो मे नही मिलता यह उन्ही लोगो मे होता है जिनकी इंफेक्शन से लड़ने की ताकत कम होती है ! ऐसे लोग जिनको कैंसर होता है या ऐसे लोग जो दवाओं पर डिपेंड है ! जो इम्युनिटी कम करती है या फिर दिन भर में 4 या उससे अधिक स्टीम ले रहे हो जिससे फंगस इंफेक्शन नाक के द्वारा अंदर जाता है !

Leave a Comment

%d bloggers like this: